भारत ने स्पेस सेक्टर में आज एक और बड़ी कामयाबी हासिल कर ली है

भारत का पहला सोलर मिशन Aditya L1 अपने लक्ष्य पर पहुंच गया है

चंद्रयान-3 की सफलता के बाद आज भारत का पहला सोलर मिशन Aditya L1 शाम 4 बजे के करीब अपने लक्ष्य पर पहुंच गया है

Aditya L1 ने 2 सितम्बर से शुरू हुई अपनी यात्रा में 15 लाख किलोमीटर की यात्रा तय की है.

प्रधानमंत्री मोदी ने Aditya L1 के अपने मंजिल लैंगरेज पॉइंट पर सफलतापूर्वक पहुँचने पर ट्वीट कर बधाई दी है

उन्होंने कहा कि यह सबसे जटिल अंतरिक्ष मिशनों में से एक को साकार करने में हमारे वैज्ञानिकों के अथक समर्पण का प्रमाण है

उन्होंने यह भी कहा कि हम मानवता के लाभ के लिए विज्ञान की नई सीमाओं को आगे बढ़ाना जारी रखेंगे

प्रभामंडल कक्षा, एल 1 , एल 2 या एल 3 ‘लैग्रेंज प्वाइंट’ में से एक के पास एक आवधिक, त्रि-आयामी कक्षा है

इस मिशन का मुख्य उद्देश्य सौर वातावरण में गतिशीलता, सूर्य के परिमंडल की गर्मी, सूर्य की सतह पर सौर भूकंप या कोरोनल मास इजेक्शन, सूर्य के धधकने संबंधी गतिविधियों और उनकी विशेषताओं और पृथ्वी के करीब अंतरिक्ष में मौसम संबंधी समस्याओं को समझना है