साल 2006 में उस समय प्रधानमंत्री रहे डॉ.मनमोहन सिंह ने हर साल 10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस मनाने की घोषणा की थी।

10 जनवरी, 1975 को नागपुर में आयोजित प्रथम विश्व हिंदी सम्मेलन की वर्षगाँठ पर पहली बार यह दिवस वर्ष 2006 में मनाया गया था। 

यह सम्मेलन अंतरराष्ट्रीय स्तर का था, जिसमें ३० देशों के 122 प्रतिनिधि शामिल हुए थे

यह उस दिन को चिह्नित करता है जब वर्ष 1949 में संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) में पहली बार हिंदी बोली गई थी।

यूरोपीय देश नार्वे के भारतीय दूतावास ने पहली बार विश्व हिंदी दिवस मनाया था।

हिंदी इस समय विश्व में तेजी से उभरती हुई भाषा है।

दुनियाभर में 60 करोड़ से ज्यादा लोग हिंदी भाषा बोलते हैं

दुनियाभर में 60 करोड़ से ज्यादा लोग हिंदी भाषा बोलते हैं

वर्ष 2018 में मॉरीशस के पोर्ट लुइस में विश्व हिंदी भवन का उद्घाटन किया गया।

हिंदी दिवस का उद्देश्य भारतीय भाषा के बारे में जागरूकता पैदा करना और इसे विश्व भर में वैश्विक भाषा के रूप में प्रचारित करना है