भारतीय समाज के लिए हिंदी भाषा न केवल बोलचाल की भाषा है बल्कि ये हमारी आत्मा की गहराई से निकलने वाली भाषा

हिंदी भारत के उत्तरी भाग और दुनिया भर में अनेक देशों में बड़े पैमाने पर बोली जाने वाली भाषाओं में से एक है।

साल 2011 में हुई जनगणना के मुताबिक देश में करीब 43.63 फीसदी लोग हिंदी का इस्तेमाल करते हैं

दुनिया भर में 60 करोड़ से ज्यादा लोग हिंदी भाषा बोलते हैं।

भारत के अलावा मॉरीशस, फिजी, सूरीनाम, गुयाना, त्रिनिदाद, टोबैगो और नेपाल जैसे देशों में हिंदी भाषा बोली जाती है।

मंदारिन और अंग्रेजी के बाद हिंदी दुनिया में तीसरी सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है।

प्रथम विश्व हिंदी सम्मेलन की 31वीं वर्षगाँठ के अवसर पर आयोजित समारोह में वर्ष 2006 में तत्कालीन प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने हर साल 10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस मनाने की घोषणा की थी।

1975 में 10 जनवरी को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने प्रथम विश्व हिंदी सम्मेलन का आयोजन किया था।

1949 में संयुक्त राष्ट्र महासभा में पहली बार हिंदी बोली गई थी।

विश्व हिंदी दिवस का महत्व इसलिए भी बढ़ जाता है, क्योंकि यह भाषा विश्व स्तर पर स्थापित हो चुकी है